/मूली खाने के फायदे । BENEFITS OF EATING RADISH ( MOOLI )

मूली खाने के फायदे । BENEFITS OF EATING RADISH ( MOOLI )


मूली खानें के फायदे ।  BENEFITS OF EATING RADISH   ( MOOLI ) 

जिस तरह हम सब्जियों को महत्व देते हैं और उनका उपयोग करके फायदा हासिल करते हैं इसी तरह हमें फलो का भी उपयोग करना चाहिए क्योंकि ताज़े और मौसमी फल हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं।

मूली के बारे में अगर हम बात करें तो यह हमारे लिए बहुत फायदेमंद है हम इसका उपयोग तो खूब करते हैं पर हम इसके फ़ायदे नही जानते।

हम आपको इस लेख में मूली के बारे में विस्तार से बताते हैं कि मूली हमारे लिए कितनी महत्वपूर्ण है इसके फ़ायदे हमारे लिए कितने आवश्यक है।

सबसे पहले जानते हैं कि मूली क्या है और इसके फ़ायदे क्या है ?

मूली क्या है ? 

मूली एक सब्जी है जो स्वाद में तीखी और जड़ की तरह होती है। मूली के पत्ते फल और बीज सभी बहुत उपयोगी होते हैं। इसका रंग सफेद , लाल,  बेंगनी और काला होता है।  

यह देखने में गोल लंबी और बेलन के आकार की होती है जो खाने में मीठी और तीखे सवाद की होती है। इसको पकाकर या कच्चा सलाद के रूप में और अचार बनाकर उपयोग किया जाता है। 

इसका वैज्ञानिक का नाम रापानस सैटियस है। पूरी दुनिया में इसका उपयोग किया जाता है सबसे ज्यादा इसकी खपत और खैसी भारत में की जाती है। 

आइए हम आपको बताते हैं कि मूली के फायदे क्या है। 

मूली के फ़ायदे ।  BENEFITS OF RADISH IN HINDI

आपने मूली के बारे में पढ़ा के मूली क्या होती है अब हम आपको बताते हैं मूली खाने के फ़ायदे क्या हैं ?

1. प्रतिरक्षा प्रणाली

अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए हमें नियमित रूप से मूली का सेवन करना चाहिए क्योंकि मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली हमें रोगों से बचाती है और स्वस्थ रखती है।

मूली में पाए जाने वाले पोषक तत्व हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में बहुत मदद करते हैं जिससे हमारी शारीरिक और मानसिक परेशानियों का समाधान होता है।

इसलिए अपने रोज़ाना के खान पान में मूली का उपयोग करना चाहिए।

2. गुर्दों को स्वस्थ करे

मूली में कई तरह के संक्रमणं से लड़ने के गुण और शक्ति होती है जो हमारे गुर्दों को संक्रमणं से बचाने में बहुत मदद करती है।

जब हम मूली का सेवन करते हैं तो यह हमारे गुर्दों से ज़हरीले पदार्थ को साफ कर देती है जिससे गुर्दे स्वस्थ रहते हैं और पेशाब सरलता से होने लगता है।

मूली का सेवन हमारे मूत्र प्रणाली को बेहतर बनाने में हमारी सहायता करती है यह एक प्रकार का मूत्रवर्द्धक है।

3. रक्तचाप को नियंत्रित करें

मूली का नियमित सेवन करने से हमारा ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है क्योंकि मूली में पोटेशियम होता है।

पोटेशियम हमारे रक्त प्रवाह को को बनाए रखता है जिससे हमारा ब्लड प्रेशर normal रहता है। मूली के उपयोग से हमारा रक्त शर्करा का स्तर भी normal  रहता है।

4. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करे

मूली के नियमित सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को कम किया जा सकता है जिससे दिल के रोगों को कम करने या रोकने में बहुत मदद मिलती है।

मूली में कुछ फ्लेवोनॉयड पाए जाते हैं जो दिल के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं इसलिए कहा जाता है कि दिल के रोगियों को मूली का नियमित सेवन करना चाहिए।

5. पथरी का उपचार करे

मूली में क्षारता ज़्यादा होती है जिसकी वज़ह से पथरी गल जाती है। इसलिए जब तक मूली बाज़ार में उपलब्ध हो तो पथरी के रोगियों को खाते रहना चाहिए।

मूली और इसके पत्तों में पथरी निकालने के क्षमता होती है। मूली के पत्तों का एक गिलास रस निकालकर उसमें एक चौथाई चम्मच काली मिर्च और एक नींबू निचोड़कर रोज़ाना सुबह पिएं इससे बहुत जल्दी पथरी गल कर निकल जाएगी और आराम मिलेगा।

6. गंध को दूर करे

मुंह की गंध या सांसों की गंध से छुटकारा पाने के लिए मूली खाएं या मूली के पत्तों को चबाएं इससे मुंह की बदबू आना बंद हो जाती है।

मूली खाने के बाद गुड़ खाने से मुंह की बदबू या बदबू वाली डकारें आना बंद हो जाती है। गुड़ खाकर मूली के कच्चे पत्तों को खाना चाहिए।

मूली में क्षारता होने से यह मुंह में बदबू पैदा करने वाले कीटाणुओं को मार देती हैं जिससे बदबू आना बंद हो जाती है।

7. पेशाब करने में आसानी

अगर किसी को पेशाब करने में समस्या हो या कम होता हो या रूक रूक कर होता‌ हो तो मूली खाएं और मूली के पत्तों को चबाएं। इससे पेशाब में आसानी‌ हो जाती है।

आधा कप मूली का रस निकालकर दो घंटे से रोगी को पिलाने से पेशाब खुल कर आसानी से होने लगता है।

एक गिलास पानी में एक चौथाई कप मूली का रस मिलाकर इसमें आधा चम्मच मूली के बीज पीसकर मिलाएं और इसको छानकर दिन में तीन बार रोगी को पिलाएं इससे पेशाब खुलकर आसानी से होने लगेगा।