/हर बीमारी का इलाज है पुदीने के फ़ायदे । PUDINA BENEFITS

हर बीमारी का इलाज है पुदीने के फ़ायदे । PUDINA BENEFITS

 

Pudina Benefits
Pudina Benefits

पुदीने के फ़ायदे , उपयोग और नुक़सान । PUDINA BENEFITS , USES AND SIDE EFFECTS IN HINDI

पुदीने के बारे में हम सब जानते हैं और अपने घर में उपयोग भी करते हैं लेकिन पुदीने के फ़ायदे ( Pudina Benefits ) बहुत कम लोग जानते हैं।  चमत्कारी हैं लौकी के फ़ायदे इसको भी पढ़िए

पुदीना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है क्योंकि यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है। पुदीना बहुत सस्ता होता है इसलिए बाज़ार में आसानी से मिल जाता है।

हम आपको इस लेख में पोदीना क्या है इसको किस तरह उपयोग ( Pudina Uses) कर सकते हैं और पोदीनें के फ़ायदे( Pudina Ke Fayde) और नुक़सान क्या है आपको बताते हैं। 

सबसे पहले हम आपको बताते हैं की पोदीना क्या है ?

पुदीना क्या है । WHAT IS MINT IN HINDI

पुदीना ( Mint Leaves) एक खुशबूदार पौधा है जिसकी खेती पूरी दुनिया में की जाती है क्योंकि इसमें औषधीय गुण होते हैं। यह रोग दूर करने के साथ-साथ सेहत बनाता है और त्वचा की देखभाल में भी मदद करता है।

पुदीने का वैज्ञानिक नाम मेंथा भी है इसकी 20 से ज़्यादा नस्लें और लगभग 100 से ज़्यादा पाई जाती है। इसलिए यह सैकड़ों वर्षों से उपयोग किया जा रहा है। चौंका दें पिस्ते के फ़ायदे इसको भी पढ़िए

ई बनाने में पुदीना उपयोग ( Pudina Uses)  किया जाता है और इसकी चाय , मंजन , इनहेलर भी बाज़ार में उपलब्ध है।

एक शोध में यह बात सामने आई है कि पुदीना में एन्टीआक्सीडेंट , एंटीवायरस , एंटीमाइक्रोबियल और एंटी एलर्जिक गुण होते हैं जो हमारी सेहत और त्वचा के लिए आवश्यक होता है।

आइए हम जानते हैं की पुदीने के फ़ायदे (Benefits Of Mint) और नुक़सान क्या है।

चमत्कारी हैं हल्दी के फ़ायदे  इसको भी  पढ़िए

पुदीने के उपयोग । PUDINA USES IN HINDI

पुदीना हम किस तरह उपयोग कर सकते हैं आइए जानते हैं।

mint leaves को खाना बनाने में उपयोग किया जाता है स्वाद बढ़ाने के लिए।

• पुदीने को पीसकर इसकी चटनी बनाकर उपयोग किया जाता है।

mint leaves का रस निकालकर उपयोग किया जा सकता है।  गज़ब के हैं टमाटर के फ़ायदे इसको भी पढ़िए

• पुदीने का तेल बनाकर उपयोग किया जाता है।

• पुदीने का फेस पैक बनाकर चेहरे को सुंदर बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।

• पुदीने के परांठे बनाकर उपयोग किया जा सकता है।

mint leaves की चाय बनाकर उपयोग किया जा सकता है।

Pudina Benefits
Pudina Ke Fayde

पोदीने के फ़ायदे । PUDINA KE FAYDE IN HINDI

कब्ज़ का घरेलू इलाज इसको भी पढ़िए

1. पेट दर्द

अगर पेट में दर्द हो रहा हो या अपच हो तो इससे छुटकारा पाने के पोदीने ( Benefits Of Mint) का उपयोग करना चाहिए।

इसके लिए पोदीने में थोड़ा जीर , कालीमिर्च , नमक और हींग मिलाकर चटनी की तरह बारीक पीस लीजिए फिर इसमें से थोड़ा सा  एक गिलास पानी में डालकर उबालें ।

इसको सुबह-शाम पीने से अपच या पेट दर्द में बहुत जल्दी आराम मिलता है।

हैरान कर दें कलौंजी के फायदे इसको भी पढ़िए

2. दाद

त्वचा पर गर्मी या किसी वजह से दाद हो जाए तो पोदीना उपयोग करने से लाभ होता है।

पुदीने को पीसकर चटनी बना लें फिर इसमें थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर दाद पर लगाएं दाद खाज और खुजली में आराम मिलता है।

चार चम्मच पुदीने के रस में दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर दाद पर लगाएं इससे दाद और खुजली में आराम मिलता है।

अमरूद के फ़ायदे  इसको भी पढ़िए

3. पेट के कीड़े

पेट में कीड़े हो गया है तो इसका सबसे अच्छा उपाय पुदीने का उपयोग करना है।

25 ग्राम पुदीना लीजिए फिर इसमें 8  से 10 कालीमिर्च पीसकर मिलाएं और इसको एक गिलास पानी में घोलकर रोगी को पिलाएं।

इस पानी से पेट के कीड़े मर कर मल के साथ बाहर निकल जाते हैं।

गन्ने के स्वास्थ्य लाभ इसको भी पढ़िए

4. पेशाब में आसानी

पेशाब करने में परेशानी होती हो या खुलकर पेशाब नही होता हो तो पुदीना से इसका इलाज संभव है।

पोदीने में मिश्री मिलाकर पीस लीजिए फिर इसको एक गिलास ठंडे पानी में मिलाकर रोगी को सुबह-शाम पिलाएं।

इससे पेशाब की बाधा दूर हो जाती है और खुल कर पेशाब होने लगता है।

Pudina Benefits
Pudina For Fever

5. ज्वर में लाभ

ज्वर के लिए पुदीने की पत्तियों ( Mint Leaves )  उपयोग करना बहुत फायदेमंद होता है।

25 ग्राम पोदीने में 10 कालीमिर्च , तुलसी के 15 पत्ते और 10 ग्राम अदरक मिलाकर पीस लीजिए और 1/2  गिलास पानी में उबालें।

उबलने पर जब पानी आधा रह जाए तो हल्का गर्म पानी रोगी को एक दिन में तीन बार पिलाएं इससे हर तरह का ज्वर ठीक हो जाता है।

तुरंत इलाज एसिडिटी का इसको भी पढ़िए

6. गैस बनना 

पेट में दर्द हो रहा हो , पेट फूल रहा है और गैस बन रही हो तो इसका समाधान पोदीने (Pudina Benefits) से हो सकता है।

पोदीने की पत्तियों का रस निकाले और इसके दो चम्मच में एक चम्मच शहद और एक चम्मच पानी मिलाकर रोगी को पिलाएं गैस बनना बंद हो जाएगा और आराम मिलेगा।

7. ज़ुकाम – खांसी

गर्मी में ज़ुकाम खांसी होने पर पोदीने को पानी में उबालकर इसमें स्वाद के लिए थोड़ा नमक डालकर रोगी को पिलाएं ज़ुकाम खांसी दूर हो जाएगी।

पोदीने के पत्तों ( Mint Leaves ) को पानी में उबालकर इसको छानकर एक कप में निकालें फिर इसमें स्वाद के लिए शक्कर मिलाकर गर्म गर्म दिन में तीन बार रोगी को पिलाने से ज़ुकाम और खांसी में आराम मिलता है।

Pudina Benefits
Pudina For Nimoniya

8. निमोनिया में लाभकारी

25 ग्राम पुदीने के पत्तों में 10 ग्राम अदरक मिलाकर इसको 1/2 गिलास पानी में डालकर काढ़ा बनाकर सुबह-शाम पीने से बहुत जल्दी निमोनिया रोग में आराम मिलता है।

पुदीने के एक चम्मच रस में एक चम्मच अदरक का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम पीने से निमोनिया में जबरदस्त फायदा होता है।

तीन दिन में मुंहासों से छुटकारा इसको भी  पढ़िए

9. मुंहासों में लाभकारी

( Pudina Ke Fayde) पुदीने से मुंहासों से छुटकारा पाना संभव है। पुदीना के पत्तों को पीसकर इसमें नींबू का रस मिलाकर मुंहासों पर लेप करनें से बहुत फ़ायदा होता है।

लेप लगाते समय अपनी आंखों का ख़्याल रखे की यह लेप आंखों में न जाएं। 1/2 घंटे बाद लेप को साफ पानी से धोएं।

कुछ हफ्तों में चेहरे से मुहांसे दूर हो जाएंगे।

10. पित्ती में लाभकारी

किसी दवा की एलर्जी से या गर्मी से या खाने पीने से शरीर पर पित्ती उछल जाती है जिसमें जलन और खुजाल बहुत चलती है। इससे छुटकारा पाने के लिए पुदीना उपयोग करना चाहिए।

इसके लिए 20 ग्राम पुदीने में 40 ग्राम गुड़ मिलाकर इसको 250 ग्राम पानी में उबालें फ़िर इसको छानकर रोज़ाना सुबह-शाम रोगी को पिलाएं।

इसको पीने से बार बार पित्ती उछलना बंद हो जाती है।

11. मुंह की बदबू दूर करे

मुंह से निकलने वाली बदबू कभी – कभी  शर्मिंदगी का कारण बन जाती है पर इसका इलाज पोदीने के फायदे में मिल सकता है।

पुदीने को पानी में मिलाकर इस पानी से दिन में 3 से  4 बार कुल्ला करें इससे मुंह की बदबू दूर हो जाती है और साथ – साथ दांतों को भी सेहत मिलती है।

एक रिसर्च में भी यह बात मिलती है की पुदीने का पानी मुंह की बदबू को दूर करने में मददगार है।

12. मोटापा दूर करे

पुदीने के पत्ते के फ़ायदे ( Benefits Of Mint Leaves ) मोटापा दूर करने में बहुत प्रभावशाली असर डालते हैं।

पुदीने की पत्तियों का तेल इस्तेमाल करने से भूख लगना कम हो जाती है जिससे ज़्यादा खाने की आदत पर नियंत्रण रहता है।

खाने पर नियंत्रण होने से वज़न को नियंत्रित करना आसान हो जाता है जिससे मोटापा नही बढ़ता।

13. तनाव दूर करे

बीमारी , थकान , काम या किसी भी वजह से तनाव होता है तो इससे बचने के पुदीने की पत्तियों ( Mint Leaves ) का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें तनाव दूर करने के गुण होते हैं।

जब तनाव महसूस करें तो पुदीने की पत्तियों की चाय ( Benefits Of Mint Tea ) बनाकर सेवन करें इसकी ठंडक दिमाग़ को ठंडा करके हमारे मानसिक तनाव को दूर कर देती है।

14. याददाश्त तेज़ करे

याददाश्त कमज़ोर हो गई हो तो अपनी याददाश्त को बढ़ाने के लिए पुदीने की पत्तियों का या इसके बने प्रोडक्ट का उपयोग करना चाहिए फायदा मिलता है।

कई विशेषज्ञों का मानना है की पुदीने की पत्तियों को खाने या इससे बनी टाफी , बिस्किट , च्यूइंगम का सेवन करने से याददाश्त बढ़ती है और सोचने समझने की ताक़त पर अच्छा असर पड़ता है।

छोटे बच्चों और पड़ने वाले बच्चों को पुदीने की पत्तियां और इसके बने हुए प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए लाभकारी होता है।

15. हिचकी दूर करे

हिचकी आने पर पुदीने की पत्तियों का रस इस्तेमाल करने से बहुत जल्दी फ़ायदा होता है।

अगर हिचकी आना बंद नहीं हो रह हो तो पुदीने के पत्तों के रस में थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर रोगी को पिलाएं फायदा होगा।

पुदीने की पत्तियों में थोड़ी सी शक्कर मिलाकर दिन में तीन-चार बार खिलाएं हिचकी दूर हो जायेगी।

16. लू से बचाव

गर्मी के मौसम में अकसर लोग लू का शिकार हो जाते हैं इस लू से बचने के लिए पुदीने का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद है।

घर से निकलने से पहले पुदीने की पत्तियों का रस या इसका शर्बत पीएं फिर घर से निकले यह आपको लू से बचाता है पेट और दिमाग़ की गर्मी को भी दूर करता है।

 पुदीना के नुक़सान । SIDE EFFECTS OF MINT LEAVES

आपको हमने बताया कि पुदीना के फ़ायदे (Benefits Of Mint Leaves ) का हमारी सेहत पर कितना अच्छा असर होता है अब जानिए की पुदीने के नुक़सान क्या हो सकते हैं।

• पुदीने का ज़्यादा उपयोग करने से पेट में गैस बनने की समस्या हो सकती है।

• पुदीने के तेल का उपयोग अपने फेमिली डाक्टर के परामर्श से करना चाहिए यह किसी किसी को नुक़सान भी करता है।

• पुदीने के रस को डायरेक्ट त्वचा पर नही लगाना चाहिए क्योंकि यह त्वचा पर बुरा असर डाल सकता है।

• लो BP के रोगियों को पुदीने ( Pudina Benefits ) का उपयोग कम करना चाहिए क्योंकि यह BP को कम करता है इसलिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

• शुगर के रोगियों को पुदीने का उपयोग नही करना चाहिए क्योंकि यह शरीर में जाकर शुगर लेवल को कम कर देता है अपने डॉक्टर से परामर्श करके उपयोग करें।

• कमजोर और नाज़ुक त्वचा वाले लोगों को पुदीना उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि यह इससे त्वचा पर एलर्जी हो सकती है।

• गर्भवती महिलाओं को पुदीना ( Benefits Of Mint ) उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए क्योंकि इससे नुक़सान की संभावना हो सकती है।

पुदीना के पोषक तत्व । NUTRITIONAL VALUE OF MINT LEAVES

•  उर्जा                   44 कि•कैलोरी

• पानी                   85.65 ग्राम

• प्रोटीन                 3.30 ग्राम

• फाइबर                0.65 ग्राम

• कार्बोहाइड्रेट         8.40 ग्राम

• फैट                    0.75

• कैल्शियम            195 मि•ग्राम

• मेग्निशियम          65 मि•ग्राम

• पोटेशियम           450 मि•ग्राम

• सोडियम             30 मि•ग्राम

• ज़िंक                  1.10 मि•ग्राम

• फास्फोरस            60 मि•ग्राम

• आयरन               11.75 मि•ग्राम

• विटामिन बी1       0.075 मि•ग्राम

• विटामिन बी2       0.170 मि•ग्राम

• विटामिन सी         13.5 मि•ग्राम